Tuesday, 14 November 2017

Abdul Kalam Best Hindi Poem

हिंदी कविता

भारत का है यह सपना
अब्दुल कलाम अपना

एक चराग बुझ गया है
अँधेरा छा गया है

हर आँख रो रही है
एक जात चल बसी है

दर्द व अलम की बारिश
घायल है तेरे आशिक

तामिल भाषा तेरी
ऊंची उड़ान तेरी

इस देश का तू रहेबर
टेक्नोलॉजी का गोहर

इस मुल्क का मुक़द्दर
तू हिन्द का सिकंदर

इंसानियत का पैकर
तू तजुर्बो का मजहर

आकाश और अग्नि
तिरशूल नाग पृथ्वी

हर वक़्त कामरानी
थी दिल में शादमानी

भारत है तुझ पे नाज़ा
बच्चो का तू है अरमां

अजमत तेरी बड़ी है
तू ज्ञान का सखी है

है फैज़ तेरा जारी
है फ़िक्र तेरी भारी

गुल साइंस का खिला था
रहेबर हमें मिला था

सब कुछ लुटा गया तू
भारत सजा गया तू

हर यूनिवर्सिटी में
देहात और सिटी में

यह बात है हकीकी
की देश की तरक्की

Abdul kalaam Hindi Kavita

Bharat ka hai ye sapna
Abdul kalaam  apna

Ek charaag bujh gaya hai
Andhera chaa gaya hai

Har aankh ro rahi hai
Ek jaat chal basi hai

Dard wa alam ki baarish
Ghayal hai tere aashiq

Tamil zubaan teri
Unchi udaan teri

Is desh ka tu rahebar
Technology ka gohar

Is mulq ka muqaddar
Tu hind ka sikandar

Insaniyat ka paikar
Tu tajurbo ka mazhar

Aakash aur agni
Trishul naag pruthvi

Har waqt kamrani
Thi dil me shadmani

Bharat hai tujh pe nazaan
Bachcho ka tu hai armaan

Azmat teri badi hai
Tu gyan ka sakhi hai

Hai faiz tera jaari
Hai fikr teri bhaari

Gul science ka khila tha
Rahebar hame mila tha

Sab kuch luta gaya tu
Bharat saza gaya tu

Har university me
Village aur city me

Yeh baat hai haqeeqi
Ki desh ki taraqqi


0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email