Tuesday, 5 December 2017

चुगल खोरी। Best Hindi Moral Story

Hi friends aaj main aapke samne aisi post lekar aaya hoo jise aap share karne par majbur hojayenge shayad aapko yeh post ki link har social site par dekhne ko mile.Shayad aap bhi ise share link ke through hi read kar rahe ho.Isse pahle bhi hamne is tarah ki Stories read ki thi jaise बुद्धिमान जीत गया
पापा मैं फर्स्ट आया हु Hindi Story Aur 3 Top Motivational Stories In Hindi aur aaj ham ham isi tarah se ek Best Moral Hindi Story Read karenge.

                           Hindi Moral Story


किसी जंगल में एक शेर बहुत बीमार था। जंगल के सब जानवर उसे देखने को आये मगर हिरनी नहीं आई शेर ने दुसरो जानवरों से उसकी ना आने की वजह पूछी उस पर भेड़िया कहने लगा :
  "बादशाह सलामत वह अपने आप को बहुत कुछ समझती है उसे आपकी क्या परवाह"।
यह सुनकर शेर गुस्से में आगया और उसने हिरनी को दरबार में बुलाया।जंगल के राजा का हुकुम था बेचारी हिरण के लिए आना जरुरी था। मगर उसे भेडिये की चुगल खोरी का हाल मालुम हो चूका था। जब वह शेर के सामने आई तो शेर ने उससे गायब रहने की वजह पूछि। हिरन ने कहा : बादशाह सलामत ! मुझे आपकी बीमारी का हाल मालुम हो चूका था मगर मैं दवाई मिल जाए इस तलाश में घूम रही थी !

शेर ने पुछा : क्या दवाई मिली?

  हिरन ने कहा : हां बादशाह सलामत वह दवाई भेडिये के पैर की हड्डी है!
   शेर ने उसी वक़्त पंजा मारा और पास बैठे भेडिये के पैर की हड्डी निकाल ली और खा गया भेड़िया वहां से लहुलुहान बाहार निकला।
     हिरन ने आगे बढ़ कर कहा : भेडिये जब तुम बादशाहों के सामने जाया करो तो देख लिया करो के तुम्हारे मूह से क्या निकल रहा है। बगैर सोचे समझे बात करना खतरे में डाल देता है।

Moral: इस Story  से हमें Moral मिलता है की हमें हमेशा इधर की बात उधर नहीं करना चाहिए किसी की बुराई नहीं करना चाहिए और अगर हम करते भी है यह अटल है की उसका भुगतान हमें भी देना है जैसा की भेड़िये के साथ हुआ।


0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email