Thursday, 22 March 2018

Best Judaai Poetry By Wasim Barelvi

Best Judaai Poetry By Waseem Barelvi : इससे पहले हमने Motivational Quotes Read किये थे . यह Poetry Waseem Barelvi Shayar की है . इससे पहले हमने बहुत सी Shayari पढ़ी थी आज हम जुदाई पर कविता पढेंगे.Inspirational Poem

Poetry By Waseem Barelvi

Waseem-barelvi


जो मिला अच्छा है , वो कही छूटता गया
ज़िन्दगी को मुड - मुड के देखता गया

खाली जेब मैं सब की निगाहों में आगया
सडको पर भिक मांगने वालो का क्या गया

जब उसे जाना था तो जाता उसे इख्तियार था
जाते हुए मुझे यह बात क्यों बता गया

पहला सा ऐतेबार क्यों मुझमे ढूंढता है
उसकी ज़िन्दगी में जब कोई और आगया

छोड़ दी उसने मेरे बारे में गुफ्तगू
कुछ दिनों के बाद में भी भूल सा गया

मेले की रौनाकों में बहुत गम हो तुम वासिम
घर जाने का वक़्त मियां सर पर आगया


जुदाई Poetry In Hindi


Jo mila achha hai wo kahi chutta gaya
Zindagi ko mud - mud ke dekhta gaya

Khaali jeb main sab ki nigaho me aagaya
Sadko par bheek maangne walo ka kya gaya

Jab use jana tha to jata , usey ikhtiyaar tha
Jaate huye mujhe ye baat kyu bata gaya

Pahela sa aitebaar mujhme kyu dhundta hai
Uski zindagi me jab koi aur aagaya

Chod di usne mere baare me guftagu
Kuch dino baad main bhi usko bhool sa gaya

Mele ki raunako me bahut gum ho tum Waseem
Ghar jaane ka Waqt miyaan sar par aagaya

0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email