Monday, 21 May 2018

Zindagi Poetry In Hindi | Life Poetry In Hindi

इससे पहले हमने Waseem Barelvi Sahab की ग़ज़ल पढ़ी थी आज हम Zindagi पर Poetry पढेंगे.

Life Poetry 


देखते हो रोज़ तुम भी ज़िन्दगी
चलती फिरती हंसती गाती ज़िन्दगी

फैसला है खुद को करना दोस्तों
चाहते हो तुम कैसी ज़िन्दगी

एक तरफ है बे मज़ा सी ज़िन्दगी
इस तरफ है सच्ची अच्छी ज़िन्दगी

झूट पर नहीं रहती है यह ज़िन्दगी
और सच पर सीधी साधी ज़िन्दगी

काम पूरा करके उठना चाहिये
वरना है आधी अधूरी ज़िन्दगी

है ये बचपन फूल सा नाजुक मिजाज़
फैसला है तुमको करना चाहो जैसी ज़िन्दगी

मुस्कुराहट पर तुम्हारी होता है दिल बाग़ बाग़
फूल सी खुशबु मिटाती मुस्कुराती ज़िन्दगी

अच्छाई  ही काम  आती है सदा
क्यों  गुज़ारे हम  बुरी ज़िन्दगी




Dekhte ho roz tum bhi zindagi
Chalti phirti hansti gaati zindagi

Faisla hai khud ko karna dosto
Chahte ho tum kaisi zindagi

Ek taraf hai bemaza si zindagi
Is taraf hai sachhi achhi zindagi

Jhoot par qayam nahi rahti hai ye
Aur sach par seedhi saadhi zindagi

Kaam poora karke uthna chahiye
Warna hai aadhi adhuri zindagi

Hai yeh bachpan phool sa najuk mijaaz
Faisla hai tumko karna chaho jaisi zindagi

Muskurahat par tumhari hota hai dil baag baag
Phool ki khushbu mitaati muskurati zindagi

Achhai hi kaam aati hai sada
Kyu guzare ham buri zindagi


0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email