Sunday, 6 May 2018

Waseem Barelvi Best Gazal In Hindi

इससे पहले हमने Waseem Barelvi साहब की ग़ज़ल तुम्हे गम को समझना गर नहीं आया पढ़ी थी आज मैं लेकर आया हूँ Waseem Barelvi साहब की बहुत ही शानदार कविता उम्मीद है आप इसे पढ़कर ही share करेंगे.

Waseem Barelvi गमो से कहा हम हार जाने वाले थे

गमो से कहा हम हार जाने वाले थे
आंसुओं की तरह मुस्कुराने वाले थे

हमी ने कर दिया ऐलाने गुमराही वरना
हमारे पीछे बहुत से लोग आने वाले थे

इन्हें तो ख़ाक ही में मिलना था यह मेरे थे
यह आंसू कौन से ऊंचे घराने वाले थे

उन्हें कभी करीब न होने दिया मैंने
जो दोस्ती में अपनी हदे भूल जाने वाले थे

मैं जिनको जान कर पहचान नहीं सकता
कुछ ऐसे ही लोग मेरा घर जलाने वाले थे

हमारा अलमिया यह था की हमसफ़र भी हमें
वही मिले जो हमें बहुत याद आने वाले थे

वसीम कैसी ताल्लुक की राह थी जिसमे हमें
वही मिले जो बहुत दिल दुखाने वाले थे

Waseem Barelvi Hindi Gazal


Gamo se kaha ham haar jane wale they
Aansuon ki tarah muskurane wale they

Hami ne kar diya ailan e gumrahi warna
Hamare peeche bahut se log aane wale they

Inhe to khaak hi me milna tha ki mere they
Yeh aansu kaunse oonche gharane wale they

Unhe kabhi karib na hone diya hamne
Jo dosti me apni hade bhool jane wale they

Main jinko jaan kar pahchan nahi sakta
Kuch aise hi log mera ghar jalane wale they

Hamara almiya yeh tha ki hamsafar bhi hame
Wahi mile jo hame bahut yaad aane wale they

Waseem kaisi taalluq ki raah thi jisme hame
Wahi mile jo bahut dil dukhaane wale they


0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email