Thursday, 21 June 2018

Why Are Obesity Best Poem In Hindi

Flowers Poem In Hindi इससे पहले हमने पढ़ी थी आज हम मोटापे पर Poem पढेंगे जिसमे मोटापे का Solution भी बताया गया है किस तरह से एक बच्ची अपनी माँ से मोटापे की शिकायत कर रही है और माँ उसे मोटापे का Solution दे रही है उम्मीद है आपको यह Poem बहुत पसंद आएँगी.

मोटापा क्यों है 

माँ मैं इतनी छोटी क्यों हु
और फिर इतनी मोटी क्यों हु

   देख के मुझको सब हँसते है
   भले बुरे सब ये कहते है

बस दिन भर ये खाना खाये
दुबली कैसे फिर ये रह पाये

   माँ बोली जो ये मोटापन है
   गलत तरह का रहन सहन है

खाना वक़्त पे जो भी खाए
और लुकमा भी खूब चबाये

   बने अगर वो शाकाहारी
   खाए रोटी और तरकारी

बाजारी जो चीज़ है सारी
लगे भली ये प्यारी प्यारी

   लेकिन लाती है ये बिमारी
   होजाता है जिस्म भी भारी

खाओ जितना मौसमी फल हो
आम, अंगूर या एप्पल हो

   खाने में मत पियो पानी
   ज़रा सी कम करलो बिरयानी

फिर मोटी न कहलाओंगी
अपना फिटनेस रख पाओंगी

Why Are Obesity

Maa main itni choti kyu hu
Aur phir itni moti kyu hu

   Dekh ke mujhko sab hanste hai
   Bhale bure sab ye kahte hai

Bas din bhar ye khana khaye
Dubli kaise phir rah paaye

   Maa boli jo mota pan hai
   Galat tarah ka rahan sahan hai

Khana waqt pe jo bhi khaye
Aur luqma bhi khub chabaye

   Bane agar wo Shakahari
   Khaye roti aur tarkari

Bazari jo cheez hai sari
Lage bhali ye pyari pyari

   Lekin laati hai jab bimari
   Hojata hai jism bhi bhaari

Khao jitne mausami Phal ho
Aam , Angoor aur Apple ho

   Khane me mat piyo paani
   Zara si karlo kam biryani

Phir moti na kahlaongi
Apna Fitness rakh paongi

0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email