Sunday, 8 July 2018

Waseem Barelvi Shayari In Hindi

Waseem Barelvi नाम हमारे लिए नया नहीं है इससे पहले भी हमने Waseem Barelvi Ki Shayari हम पढ़ चुके है आज फिर नयी Shayari लेकर हम आये जो आपको बहुत पसंद आएँगी.

Waseem Barelvi Hindi Shayari

अपने आपको हम एक मसअला बना न सके
इसीलिए तो किसी की नज़र में आ न सके

आंसुओ की तरह हम वास्ते निभा न सके
जिन आँखों में रहे उनमे ही घर बना न सके

वहा आँधियों ने सिखा दिया सफ़र का हुनर
जहा चराग हमें रास्ता दिखा न सके

जो पेश पेश थे बस्ती बचने वालो में
लगी जब आग तो अपना ही घर बचा न सके

मेरे खुदा ऐसी जगह पर उसे रखना
जहा कोई मेरे बारे में कुछ बता न सके

तमाम उम्र की कोशिश का यही हासिल
किसी को अपने मुताबिक कोई बना न सके

Hindi Shayari ByWaseem Barelvi


Apne aapko ham ek mas'ala bana na sake
Isiliye to kisi ki nazar me aa na sake

Aansuon ki tarah ham waste nibha na sake
Jin aankho me rahe unme hi ghar bana na sake

Waha aandhiyon ne sikha diya safar ka hunar
Jaha Charag hame rasta dikha na sake

Jo pesh pesh they basti bachane walo me
Lagi jab aag to apna hi ghar bacha na sake

Mere khuda aisi jagah par use rakhna
Jaha koi mere bare me kuch bata na sake

Tamam umra ki koshish ka yahi hasil
Kisi ko apne mutabiq koi bana na sake

0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email