India's Top Hindi Blog For Quotes, Hindi Stories

Sunday, 29 April 2018

Waseem Barelvi तुम्हे गम को समझना गर नहीं आया Hindi Poetry

इससे पहले हमने Motivational Poetry In Hindi पढ़ी थी आज हम Waseem Barelvi की कविता पढेंगे और भी कवितायें हमने शेयर की आप वह भी पढ़ सकते है.

Waseem Barelvi Hindi Shayari

तुम्हे गमो को समझना गर ना आएंगा 
तो मेरी आँख में आंसू नज़र ना आएंगा

यह ज़िन्दगी का मुसाफिर यह बेवफा लम्हा
चला गया तो फिर लौट कर ना आएंगा

बनेंगे ऊंचे मकानों में बैठकर नक़्शे
तो अपने हिस्से में मिटटी का घर ना आएंगा

मना रहे है बहुत दिनों से जश्ने तशनालबी
हमें पता था ये बादल इधर ना आएंगा

लगेंगी आग तो सिम्ते सफ़र ना देखेंगी
मकान शहर में कोई नज़र ना आएंगा

वसीम अपने अंधेरो का खुद इलाज करो
कोई चराग जलाने इधर ना आएंगा

Waseem Barelvi  हिन्दी कविता


Tumhe gamo ko samajhna gar na aayenga
To meri aankho me aansu nazar na aayenga

Ye zindagi ka musafir ye bewafa lamha
Chala gaya to phir laut kar wapas na aayenga

Banenge oonche makano me baith kar nakshe
To apne hisse me mitti ka ghar na aayenga

Mana rahe hai bahut dino se jashn e tashnaalbi
Hame pata tha yeh badal idhar na aayenga

Lagengi aag to simta e safar na dekhengi
Makaan shahar me koi nazar na aayenga

Waseem apne andheron ka khud ilaaj karo
Koi charaag jalane idhar na aayenga

0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email