India's Top Hindi Blog For Quotes, Hindi Stories

Wednesday, 7 November 2018

Hindi Poem On Diwali दीपावली पर हिन्दी कविता

इससे पहले हमने बहुत सी कविताये पढ़ी है आज हम दीवाली पर Hindi Poem पढेंगे. यह कविता Dr.Asrarullah Sahab की लिखी हुयी है इस कविता को मैंने magzine में पढ़ी मुझे इतनी पसंद आई की मैंने सोचा इसे सब के साथ share करना चाहिए यही मेरी तरफ से आप लोगो को दीपावली का तोहफा.

Diwali Poem In Hindi

Dipawali Best Hindi Poem

आया फिर से देखो तहवार रौशनी का
मोहब्बत भाईचारे, प्यार और दोस्ती का

पहने हुए है सब ने खुश रंग उजले हुए कपडे
मन भी धुला धुला है साफ़ हर किसी का

सब मुस्कुरा रहे है खुशियाँ मना रहे है
यु ही रहे ये गुलशन अमन और शांति का

इस मुल्क में चराग अब ऐसा भी एक जला दो
जिससे मिटे तास्सुब दिल साफ़ हो सभी का

इस देश में हो ऊंचा अमन व अमां का परचम
ना जुल्म हो किसी पर ये मुल्क है सभी का

बच्चो जलाओ दीप ऐसा के अब जहाँ से
मिट जाए जुल्मत और फितना तास्सुबी का

हर दिल में अब जला दो कंदील रौशनी का
बन जाए ये गुलसितां खुशहाली और ख़ुशी का

जी उठे फिर से अपना सदियों का भाई चारा
इस साल हो यही बस तोहफा दीपावली का

Best Hindi Kavita On Diwali

Aaya hai phir se dekho tahwar raushni ka
Mohabbat aur bhaichare, Pyar aur Dosti ka

Pahne huye hai sab ne ujle huye kapde
Man bhi dhula dhula hai saaf har kisi ka

Sab muskura rahe hai khushiyan mana rahe hai
Yu rahe ye gulshan amn aur shanti ka

Is mulk me charag ab aisa bhi ek jala do
Jis se mite tassub dil saaf ho sabhi ka

Is desh me ho ooncha amn o amaan ka parcham
Na zulm ho kisi par ye mulk hai sabhi ka

Bachho jalao deep aisa ki ab jaha se
Mit jaye zulmat aur fitna tassubi ka

Har dil me ab jalado qandeel raushni ki
Ban jaye ye gulsitaan khush haali aur khushi ka

Jee uthe phir se apna sadiyon ka bhai chara
Is saal ho yahi bas tohfa Deepawali ka

Best Poems In Hindi

0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email