India's Top Hindi Blog For Quotes, Hindi Stories

Friday, 8 March 2019

Altaf Ziya Gazal Lyrics In Hindi मुझमे एक मौज थी

Last Post में Sad Quotes In Hindi पढ़े थे आज हम Altaf Ziya Gazal Lyrics पढेंगे. इससे पहले भी हम अल्ताफ जिया की ग़ज़ल मुझको अपना बना चुकी हो क्या पढ़ी थी जो आपको बहुत पसंद आई थी आज की ग़ज़ल आपको कैसी लगी हमें comment में बताये उम्मीद है Altaf Ziya Ki Mujhme Ek Mauj Thi Gazal आपको पसंद आयेंगी.

altaf-ziya-gazal-lyrics

Altaf Ziya Gazal - Mujhme Ek Mauj Thi

Mujhme ek mauj thi be jaan kaha tha pahle
Doob jana mera aasaan kaha tha pahle

Wo bhi kya din the ki ham khul ke mila karte they
Aaino se main pashemaan kaha tha pahle

Isse pahle bhi main is raah se guzar chuka hu
Magar rasta itna aasaan kaha tha pahle

Mere Dushman tera ye ahesaan hai mujhpar warna
Apne aibon par mera dhyan kaha tha pahle

Waseem Barelvi Best Shayari

मुझमे एक मौज थी ग़ज़ल Lyrics अल्ताफ जिया  

मुझमे एक मौज थी बे जान कहा था पहले
डूब जाना मेरा आसान कहा था पहले

वो भी क्या दिन थे की हम खुल के मिला करते थे
आइनों  से मैं  पशेमां  कहा था पहले

इससे पहले भी मैं इस राह से गुज़र चूका हु
मगर रास्ता इतना आसान कहा था पहले

मेरे दुश्मन तेरा ये अहेसान है मुझपर वरना
अपने ऐबों पर मेरा ध्यान कहा था पहले

Judaai Gazal In Hindi
Waseem Barelvi Ki Shayari
Hindi Shayari Collection

0 comments:

Post a Comment

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email