India's Top Hindi Blog For Quotes, Hindi Stories

Saturday, 27 April 2019

Haamid Bhusavali Shayari Gazal In Hindi हामिद भुसावली ग़ज़ल वो महताब को ऐसे

आज पहेली बार Haamid Bhusawali Shayari Gazal share करने जा रहा हु जो आपको बहुत पसंद आयेंगी. हिंदुस्तान के उभरते कवियों में एक नाम हामिद भुसावली का भी है. Haamid Bhusawali Shayari गजले आपने सुनी होंगी पढ़ी होंगी अगर नहीं पढ़ी तो आपने एक अच्छे शायर जिसे हामिद भुसावली के नाम से जाना जाता है और बड़े बड़े कवी सम्मलेन में इन्हें बुलाया जाता है इनको आप नहीं जानते ये आपमें एक कमी सी है जो आज पूरी होजयेंगी यानी आप हामिद भुसावली की शायरी के fan होजायेंगे.

हामिद भुसावली वो महताब को ऐसे जलाया करता था

haamid bhusawali gazal shayari


वो महताब को ऐसे जलाया करता था
दरीचा खोल के मुकड़ा दिखाया करता था

तुम्हारे पास तो हंस हंस के आया करता था
पता चला के मेरा जी जलाया करता था

ज़रा सी बात पर वो तुम से आगया तू पर
जो गुफ्तगू के सलीके सिखाया करता था

उसे भी तोल दिया है सफ़ेद फूलों में
जो मेरी राह में कांटे बिछाया करता था

किसी ने मोड़ दिया है इसे शरारत से
ये रास्ता तो कही और जाया करता था

Altaf Ziya Gazal

Haamid Bhusawali Gazal Wo Mahtab ko Aise Jalaya Karta Tha

Wo mahtab ko aise jalaya karta tha
Daricha khol ke mukda dikhaya karta tha

Tumhare paas to hans hans ke aaya karta tha
Pata chala ke mera jee jalaya karta tha

Zara si baat pe wo tum se aa gaya tu par
Jo guftagu ke salike sikhaya karta tha

Use bhi tol diya hai safed fulon me
Jo meri raah me kaante bichaya karta tha

Kisi ne mod diya hai ise shararat se
Ye rasta to kahi aur jaya karta tha

उम्मीद करता हु हामिद भुसावली की ग़ज़ल आपको पसंद आई होंगी और भी शायरी का संग्रह आपको यहाँ पढने को मिलेंगे आप हम से जुड़े रहे. और अपने दोस्तों के साथ Haamid Bhusawali Shayari share करे.

Waseem Barelvi Judaai Shayari
Top Hindi Shayari
Altaf Ziya Shayari Lyrics

2 comments:

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email