Monday, 21 May 2018

Zindagi Poetry In Hindi | Life Poetry In Hindi

इससे पहले हमने Waseem Barelvi Sahab की ग़ज़ल पढ़ी थी आज हम Zindagi पर Poetry पढेंगे.

Life Poetry 


देखते हो रोज़ तुम भी ज़िन्दगी
चलती फिरती हंसती गाती ज़िन्दगी

फैसला है खुद को करना दोस्तों
चाहते हो तुम कैसी ज़िन्दगी

एक तरफ है बे मज़ा सी ज़िन्दगी
इस तरफ है सच्ची अच्छी ज़िन्दगी

झूट पर नहीं रहती है यह ज़िन्दगी
और सच पर सीधी साधी ज़िन्दगी

काम पूरा करके उठना चाहिये
वरना है आधी अधूरी ज़िन्दगी

है ये बचपन फूल सा नाजुक मिजाज़
फैसला है तुमको करना चाहो जैसी ज़िन्दगी

मुस्कुराहट पर तुम्हारी होता है दिल बाग़ बाग़
फूल सी खुशबु मिटाती मुस्कुराती ज़िन्दगी

अच्छाई  ही काम  आती है सदा
क्यों  गुज़ारे हम  बुरी ज़िन्दगी




Dekhte ho roz tum bhi zindagi
Chalti phirti hansti gaati zindagi

Faisla hai khud ko karna dosto
Chahte ho tum kaisi zindagi

Ek taraf hai bemaza si zindagi
Is taraf hai sachhi achhi zindagi

Jhoot par qayam nahi rahti hai ye
Aur sach par seedhi saadhi zindagi

Kaam poora karke uthna chahiye
Warna hai aadhi adhuri zindagi

Hai yeh bachpan phool sa najuk mijaaz
Faisla hai tumko karna chaho jaisi zindagi

Muskurahat par tumhari hota hai dil baag baag
Phool ki khushbu mitaati muskurati zindagi

Achhai hi kaam aati hai sada
Kyu guzare ham buri zindagi


Sunday, 13 May 2018

आओ मिल कर पेड़ लगाये Hind iPoem

इससे पहले हमने बहुत Poetries और Shayari पढ़ी आज हम फिर से एक Poetry लेकर आये है. हमने लास्ट आर्टिकल में वसीम बरेलवी साहब की ग़ज़ल पढ़ी थी आज हम Importance Of Trees पर कविता पढेंगे.

Hindi Poem On Trees

आओ मिलकर पेड़ लगाये
पेड़ों को हम दोस्त बनाये

    पेड़ों से हरयाली आये
    बारिश और खुशहाली आये 

पत्ति छाल भी काम आये
उनसे बनती कई दवाए

    पेड़ न हो तो जीना मुश्किल
    बारिश पानी पीना मुश्किल

फूल और फल उससे पाये
खूब मज़े ले लेकर खाए

    चाहो अगर अच्छी बरसात
    पेड़ लगाकर दो सौगात

हम सब एक एक पेड़ लगाये
यही बात सबको समझाए

Sunday, 6 May 2018

Waseem Barelvi Best Gazal In Hindi

इससे पहले हमने Waseem Barelvi साहब की ग़ज़ल तुम्हे गम को समझना गर नहीं आया पढ़ी थी आज मैं लेकर आया हूँ Waseem Barelvi साहब की बहुत ही शानदार कविता उम्मीद है आप इसे पढ़कर ही share करेंगे.

Waseem Barelvi गमो से कहा हम हार जाने वाले थे

गमो से कहा हम हार जाने वाले थे
आंसुओं की तरह मुस्कुराने वाले थे

हमी ने कर दिया ऐलाने गुमराही वरना
हमारे पीछे बहुत से लोग आने वाले थे

इन्हें तो ख़ाक ही में मिलना था यह मेरे थे
यह आंसू कौन से ऊंचे घराने वाले थे

उन्हें कभी करीब न होने दिया मैंने
जो दोस्ती में अपनी हदे भूल जाने वाले थे

मैं जिनको जान कर पहचान नहीं सकता
कुछ ऐसे ही लोग मेरा घर जलाने वाले थे

हमारा अलमिया यह था की हमसफ़र भी हमें
वही मिले जो हमें बहुत याद आने वाले थे

वसीम कैसी ताल्लुक की राह थी जिसमे हमें
वही मिले जो बहुत दिल दुखाने वाले थे

Waseem Barelvi Hindi Gazal


Gamo se kaha ham haar jane wale they
Aansuon ki tarah muskurane wale they

Hami ne kar diya ailan e gumrahi warna
Hamare peeche bahut se log aane wale they

Inhe to khaak hi me milna tha ki mere they
Yeh aansu kaunse oonche gharane wale they

Unhe kabhi karib na hone diya hamne
Jo dosti me apni hade bhool jane wale they

Main jinko jaan kar pahchan nahi sakta
Kuch aise hi log mera ghar jalane wale they

Hamara almiya yeh tha ki hamsafar bhi hame
Wahi mile jo hame bahut yaad aane wale they

Waseem kaisi taalluq ki raah thi jisme hame
Wahi mile jo bahut dil dukhaane wale they


Sunday, 29 April 2018

Waseem Barelvi तुम्हे गम को समझना गर नहीं आया Hindi Poetry

इससे पहले हमने Motivational Poetry In Hindi पढ़ी थी आज हम Waseem Barelvi की कविता पढेंगे और भी कवितायें हमने शेयर की आप वह भी पढ़ सकते है.

Waseem Barelvi Hindi Shayari

तुम्हे गमो को समझना गर ना आएंगा 
तो मेरी आँख में आंसू नज़र ना आएंगा

यह ज़िन्दगी का मुसाफिर यह बेवफा लम्हा
चला गया तो फिर लौट कर ना आएंगा

बनेंगे ऊंचे मकानों में बैठकर नक़्शे
तो अपने हिस्से में मिटटी का घर ना आएंगा

मना रहे है बहुत दिनों से जश्ने तशनालबी
हमें पता था ये बादल इधर ना आएंगा

लगेंगी आग तो सिम्ते सफ़र ना देखेंगी
मकान शहर में कोई नज़र ना आएंगा

वसीम अपने अंधेरो का खुद इलाज करो
कोई चराग जलाने इधर ना आएंगा

Waseem Barelvi  हिन्दी कविता


Tumhe gamo ko samajhna gar na aayenga
To meri aankho me aansu nazar na aayenga

Ye zindagi ka musafir ye bewafa lamha
Chala gaya to phir laut kar wapas na aayenga

Banenge oonche makano me baith kar nakshe
To apne hisse me mitti ka ghar na aayenga

Mana rahe hai bahut dino se jashn e tashnaalbi
Hame pata tha yeh badal idhar na aayenga

Lagengi aag to simta e safar na dekhengi
Makaan shahar me koi nazar na aayenga

Waseem apne andheron ka khud ilaaj karo
Koi charaag jalane idhar na aayenga

Saturday, 21 April 2018

हौसलों की उड़ान Motivational Poem In Hindi

इससे पहले हमने राना साहब की Poem पढ़ी थी हमने पहले Inspirational Hindi Poem भी हमने पढ़ी थी. आज हम हौसलों की उड़ान Motivational Poem पढेंगे.

Motivational Poem In Hindi

हिम्मतों का जहां बाकी रख
हौसलों की उड़ान बाकी रख

   काम मुश्किल है तो क्या परवाह
   रास्ते में कांटे है तो क्या परवाह

गार गहरे भी हो तो पट जायेंगे
हौसलों से पहाड़ कट जायेंगे

   हौसले जब उड़ान भरते है
   चाँद पर जाकर वोह ठहरते है

जोश और वल्वले है जिनके गुलाम
उनको आते है मंजिलों के सलाम

  जोर तूफ़ान का तोड़ते है वही
  वक़्त के रुख को मोडते है वही

उनकी हिम्मत को जब लगे कोड़े
वोह दाल दे  समंदर  में घोड़े

  ठोकरे खाकर मुस्कुराते है
  मुश्किलों को गले लगाते है

कोई गम हो वो झेल सकते है
अपने सर से भी खेल सकते है

  हिम्मतों की जवानियाँ जिंदा
  हौसलों की कहानियाँ जिंदा

जी तेरा छुटने न पाये कभी
हौसले टूटने न पाये कभी

  हिम्मतों का जहां बाकी रख
  हौसलों की उड़ान बाकी रख

Hauslon Ki Udaan Hindi Motivational Poem 


Himmaton ka jahaan baaki rakh
Hauslon ki udaan baaki rakh

  Kaam Mushkil hai kya parwaah
  Raste me kaante hai to kya parwaah

Gaar gahre bhi ho to pat jayenge
Hauslon se pahad kat jayenge

  Hausle jab udaan bharte hai
  Chaand par jakar wo thahrte hai

Josh aur walwale hai jinke gulam
Unko aate hai manzilon ke salaam

  Jor tufaan ka todte hai wahi
  Waqt ke rukh ko modte hai wahi

Unki himmat ko jab lage kode
Wo samndar me daal de ghode

  Thokare khaakar muskurate hai
  Mushkilon ko gale lagate hai

Koi gam ho wo jhel sakte hai
Apne sar se bhi khel sakte hai

  Himmato ki jawaniya zinda
  Hauslon ki kahaniya zinda

Jee tera chutne na paye kabhi
Hausla tutne na paye kabhi

  Himmaton ka jahaan baaki rakh
  Hauslon ki udaan baaki rakh

Friday, 13 April 2018

Munawwar Rana Gazal मैं अपने हलक से छुरी गुज़रता हु

इससे पहले हमने Waseem Barelvi साहब की गजले पढ़ी आज फिर से हम Munawwar Rana साहब की नयी ग़ज़ल पढेंगे इससे पहले की पोस्ट में हमने Children Poem In Hindi पढ़ी थी.

Munawwar Rana Gazal

Mai Apne Halak Se Apni Hi Churi Guzarta Hoo
Bade Hi Qarb Se Ye Zindagi Guzarta Hoo

Tasawwurat Ki Duniya Bhi Khoob Hoti Hai
Main Roz Sahra Se Koi Nadi Guzarta Hoo

Main Ek Hakeer Sa Jugnu Hi Sahi Phir Bhi
Main Har Andhere Se Kuch Raushni Guzarta Hoo

Yahi To Fan Hai Ki Main Is Bure Zamane Me
Sama-ato Se Nayi Shayari Guzarta Hoo

Kahi Pe Baith Ke Hansna Kahi Pe Ro Dena
Main Zindagi Bhi Badi Dogli Guzarta Hoo

मुनव्वर राना कविता

मैं अपने हलक से अपनी ही चुरी गुज़रता हूँ
बड़े ही करब से ये ज़िन्दगी गुज़रता हूँ

तसव्वुरता की दुनिया भी खूब होती है
मैं रोज़ सहरा से कोई नदी गुज़रता हूँ

मैं एक हकीर सा जुगनू ही सही फिर भी
मैं हर अँधेरे से कुछ रौशनी गुज़रता हूँ

यही तो फेन है की मैं इस बुरे ज़माने में
समातो से नयी शायरी गुज़रता हूँ

कही पे बैठ के हँसना कही पे रो देना
मैं ज़िन्दगी भी बड़ी दोगली गुज़रता हूँ

Friday, 6 April 2018

Mosquito Children Poem In Hindi

इससे पहले Article में हमने Altaf Ziya Shayari पढ़ी थी आज हम Chidren Poem पढेंगे. इससे पहले बहुत सी बच्चो की कवितायेँ हमने पढ़ी कलम Hindi Poem और भी बहुत सारी कवितायेँ है आप पढ़ सकते है.

Children Hindi Poem

mosquito-children-poem-hindi


बच्चो मैं हूँ कला मच्छर 
सबको लगता मुझसे डर

सुई चुभोता हु मैं बदन में
आग सी लग जाती है तन में

मेरी दुश्मन मच्छर दानी
मेरा घर है गन्दा पानी

उसमे पीला मछर के अंडे
जिनसे निकले चीते बच्चे

पीते है वो खून तुम्हारा
खून है सब का गुज़ारा

कानो में हु साज़ बजता
मुफ्त में इंजेक्शन लगाता

बच्चो मुझसे रहना बचकर
फैलाऊ बिमारी घर घर

मच्छर मार दवाये लाओ
फिर इन सब को मार भगाओ

मच्छर हिंदी कविता

Baccho main hoo kala machhar
Sabko lagta hai mujhse dar

Sui chubhota hu mai badan me
Aag si lag jati hai tan me

Meri Dushman Machhar dani
Mera ghar hai ganda paani

Usme pale machhar ke ande
Jinse nikle chote bachhe

Peete hai wo khoon tumhara
Khoon par hai un sab ka guzara

Kano me hu saaz bajata
Muft me injection lagwata

Baccho mujhse rahna bachkar
Failau bimaari ghar ghar

Machhar maar dawaye lao
Phir in sab ko maar bhagao

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email