India's Top Hindi Blog For Quotes, Hindi Stories

Monday, 24 August 2020

Arshad Siddharthnagari New Gazal In Hindi

Arshad Siddharthnagari  Hindi Gazal

Jaan kaheti thi jo mujhko kal tak
Aaj wo sab khafa ladkiyaan hai

Dosto inse tum door rahna
Ye badi bewafa ladkiyaan hai

Waqt hai hosh me aa bhi jaao
In hasino pe jaan mat lutao

Apni jaan doston par lutao
Doston se badhke kya ladkiyaan hai

Inke zulfon se tum door rahena
Ye hai Arshad ka tum sabse kahena

Hamse pucho ye ham jaante hai
Khubsurat bala ladkiyaan hai

Monday, 25 May 2020

Shakil Azmi Famous Gazal In Hindi

Shakil Azmi Famous Gazal Pata Nahi



Kahi Mandiron Me diya nahi kahi masjido me duaa nahi
Mere Shahar me hai khuda bahut magar aadmi ka pata nahi

Na main bheed hoon na main shor hoon main isi liye koi aur hu
Kai Rang aaye gaye magar koi rang mujhpe chadha nahi

Kahi yu naa ho tere haath me hawa se milke bhadak uthu
Abhi khel mat meri raakh se main sulag raha hoon bujha nahi

Ye jo dil me dard ka raag hai ye dabi huyi koi aag hai
Main wo jakhm hu jo bhara nahi main wo daag hu jo mita nahi

Tuesday, 25 February 2020

Mirza Galib Famous Gazal Na Suno Gar Bura Kahe Koi

Mirza Galib Gazal Na Suno Gar Bura Kahe Koi


Na suno gar bura kahe koi
Na kaho gar bura kare koi

Rok lo gar galat chale koi
Bakhsh do gar khata kare koi

Kaun hai jo nahi hai hajat mand
Kiski hajat rawa kare koi

Jab tawakka hi uth gayi galib
Kyu kisi ka gila kare koi

मिर्झा ग़ालिब ग़ज़ल ना सुनो गर बुरा कहे कोई


ना सुनो गर बुरा कहे कोई
ना कहो गर बुरा कहे कोई

रोक लो गर गलत चले कोई
बख्श दो गर खता करे कोई

कौन है जो नहीं है हाजत मंद
किस की हाजत रवा करे कोई

जब तवक्कु ही उठ गई ग़ालिब
क्यों किसी का गिला करे कोई

Tuesday, 26 November 2019

School Bell Hindi Children Poem स्कूल की घंटी हिन्दी कविता

स्कूल की घंटी बच्चो की हिन्दी कविता


रोतो को हंसा देती है स्कूल की घंटी
हंसतो को रुला देती है स्कूल की घंटी

हर वक़्त नज़र रहती है बेताब घडी पर
हर वक़्त सदा देती है स्कूल की घंटी

है वक़्त की पाबंद उठाती नही इल्ज़ाम
सोतो को जगा देती है स्कूल की घंटी

जब बोर बहुत करता है period तो उसी दम
क्या खूब मजा देती है स्कूल की घंटी

रेसेस में थोड़ी देर चहेकने नही देती
झट शोर मचा देती है स्कूल की घंटी

छुट्ठी भी अजब चीज़ है बच्चो को घडी भर
गुलफाम बना देती है स्कूल की घंटी

इतवार को भी चैन से सोने नही देती
ख्वाबों में टन टनाती है स्कूल की घंटी

सच तो यही है जान ले बच्चो को ऐ दुलार
इन्सान बना देती है स्कूल की घंटी

School Bell Children Poem In Hindi


Roto ko hansa deti hai school ki ghanti
Hansto ko rula deti hai school ki ghanti

Har waqt nazar rahti hai betaab ghadi par
Har waqt sada deti hai school ki ghanti

Hai waqt ki paband uthati nahi ilzaam
Soto ko jaga deti hai school ki ghanti

Jab boar bahut karta hai period to usi dam
Kya khoob maza deti hai school ki ghanti

Reses me thodi der chahekne nahi deti
Jhat shor macha deti hai school ki ghanti

Chutthi bhi ajab cheez hai bachho ko ghadi bhar
Gulfaam bana deti hai school ki ghanti

Itwaar ko bhi chain se sone nahi deti
Khwabon me tan tanati hai school ki ghanti

Sach to yahi hai jaan le bachho ko aye Dulaar
Insaan bana deti hai school ki ghanti

Tuesday, 27 August 2019

बरसात का मौसम हिन्दी कविता Rainy Season Hindi Poem

Hindi Poem On Rainy Season

पानी को जब हम सब तरसे
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

छाई है घंघुर घटायें
करती है सब शोर घटायें
बरसेंगी पुर जोर घटायें

उतरो बच्चो अब छत पर से
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

सडको पर पानी ही पानी
तुम ने मेरी बात ना मानी
अब तो बारिश है तूफानी

निकलो अब मत बाहर घर से
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

uncle पहने है बरसाती
छाते में है उनके साथी
जंगल में सब खुश है हाथी

पंछी भीगे बादल व पर से
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

बागो में आई हरियाली
फूल खिले है डाली डाली
देखो कितना खुश है माली

जामुन भी गिरते है पेड़ से
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

घर की छत भी टपक रही है
बिजली भी अब कड़क रही है
सुखी नदिया छलक रही है

हो गया ऊंचा पानी सर से
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

बूढ़े भीगे बच्चे भीगे
झूटे भीगे सच्चे भीगे
अच्छे अच्छे अच्छे भीगे

भीगते आये सब दफ्तर से
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

दो दो फुट पानी सडको पर
दोस्त ना राही ना रहबर
पंछी है झाडो में छुपकर

सब के सब बारिश के डर से
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

देखो सब पर बारिश आई
भीग रहे है सब ही भाई
हिन्दू मुस्लिम सीख इसाई

देखे सब को एक नजर से
रिम झिम रिम झिम बादल बरसे

Thursday, 25 July 2019

Hindi Poem On Rainy Season बरसात का मौसम हिंदी कविता

Sab ke sar par chaye badal
Door tak lahraye badal

Jab barsat ka mausam aata
Barish me har koi nahata

Ham kagaz ki naav banate
Phir paani me use bahate

Raincoat aur chate nikle
Log bhi gaane gaate nikle

Ham School to sukhe jate
Aur udhar se bhige aate

Kahi ye barish khushiyaan laati
Kahi ghar aur deewar girati

Suraj chupkar baith gaya hai
Tez hai barish tez hawa hai

Door tak chaai hai ghataye
Bijli kadke sab dar jaye

Ped naha kar jhoom rahe hai
Mast hawa ko chum rahe hai

Garmi se kuch rahat paai
Phoolo par raunak aai

Barish ki hai ajab kahani
Ghar me paani bahar paani

Shahar huwa hai sara jal thal
Rainy day hojayenga kal

Chat par khoob nahayenge ham
Masti mauj manayenge ham

Tuesday, 25 June 2019

माँ पर कविता Best Poem On Mother In Hindi

माँ पर बहुत सी कविताये आपने पढ़ी होंगी आज मैं मां पर नयी कविता लेकर आया हु जो आपको बहुत पसंद आयेंगी। Maa तो अनमोल है सिर्फ कवितायें लिखने से Maa का हक अदा नही हो सकता। वैसे तो बहुत से शायरों ने माँ पर कविताये लिखी है लेकिन शायर मुनव्वर राना साहब ने जो लिखा है वो अनमोल है आपको उन्हें भी ज़रूर पढना चाहिए इस कविता के शायर ने भी बहुत अच्छा पर्यास किया है उम्मीद है आपको Maa पर यह कविता बहुत पसंद आएँगी।

माँ अगर है तो समझो दौलत है
वरना दुनिया में सिर्फ ज़िल्लत है

बच्चो मां एक अज़ीम हंसती है
माँ के दम से ही मौज है मस्ती है

मां बहुत महरबान होती है
माँ में बच्चो की जान होती है

एक आहट पर दौड़ आती है
भाग कर फिर गले लगाती है

ये समन्दर है ये ही साहिल है
बच्चो माँ ही तुम्हारी मंजिल है

मां ना हो तो वीरान है दुनिया
जैसे कब्रस्तान है दुनिया

प्यार है इश्क है मोहब्बत है
मां एक ऐसी हसीं नेमत है

मां ही चलना तुम्हे सिखाती है
ये बुलंदी पर लेकर जाती है

मां के दम से दुनिया रौशन है
माँ के होने से घर भी गुलशन है

फर्ज तुम पर भी मां की खिदमत है
माँ के क़दमो के नीचे जन्नत है

Maa agar hai to samjho daulat hai
Warna duniya me sirf zillat hai

Bachhon ek azeem hasti hai Maan
Maa ke dam se hi mauj masti hai

Maan bahut maharbaan hoti hai
Use me bachho ki jaan hoti hai

Ek aahat pe bhaag aati hai
Bhaag kar phir gale lagati hai

Ye samandar hai ye hi sahil hai
Bachho yahi tumhari manzil hai

Maa na ho weeran hai duniya
Jaise qabrastan hai duniya

Pyar hai ishq hai mohabbat hai
Maa ek aisi haseen nemat hai

Maa hi chalna tumhe sikhati hai
Ye bulandi pe le ke jati hai

Maa ke dam se duniya raushan hai
Maa ke hone se ghar bhi raushan hai

Farz tum par bhi maa ki khidmat hai
Maa ke qadmo ke neeche jannat hai

Popular Posts

Recent Posts

Follow by Email